Kharinews

कश्मीर में सक्रिय जेईम आतंकियों के हाथों लगी नाटो सेना की एम 4 राइफल

Sep
18 2020

नई दिल्ली, 18 सितम्बर (आईएएनएस)। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) की ओर से घोषित अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी और जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) संस्थापक मौलाना मसूद अजहर के तीन भतीजों को पिछले तीन वर्षों के दौरान कश्मीर में अलग-अलग मुठभेड़ में मार गिराया गया था। इन तीनों के पास अमेरिका निर्मित खतरनाक एम 4 स्नाइपर राइफल थी।

अफगानिस्तान-पाकिस्तान क्षेत्र में आतंकवाद से लड़ने के लिए नाटो सेना द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली कई अमेरिका निर्मित एम 4 स्नाइपर राइफलें जम्मू एवं कश्मीर में अजहर के गुरिल्ला समूह जेईएम के हाथों में पड़ गई हैं।

दिसंबर 1999 में कंधार में आईसी-814 विमान के बंधकों को छोड़ने के बदले में भारत द्वारा छोड़े गए अजहर को मई 2019 में यूएनएससी की ओर से एक अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी के रूप में नामित किया गया।

एम 4 कार्बाइन का बड़े पैमाने पर अमेरिकी सशस्त्र बलों द्वारा उपयोग किया जाता है और यह प्राथमिक पैदल सेना के हथियार और सर्विस राइफल के रूप में यूनाइटेड स्टेट्स आर्मी और यूनाइटेड स्टेट्स मरीन कॉर्प्स की लड़ाकू इकाइयों में एम 16 राइफल की जगह ले रही हैं। एम 4, एम 203 और एम 320 ग्रेनेड लांचर को असेंबल करने (माउंट) में भी सक्षम है।

एम 4 में अर्ध-स्वचालित और तीन-राउंड फटने वाले फायरिंग मोड (जैसे एम16 ए2 और एम16 ए4) हैं, जबकि एम4 ए1 में अर्ध-स्वचालित और पूरी तरह से स्वचालित फायरिंग मोड (जैसे ट16 ए1 और एम16 ए3) हैं। यह एम16 ए2 असॉल्ट राइफल का हल्का और छोटा वेरिएंट है।

पिछले तीन वर्षों में कश्मीर में सुरक्षा बलों के साथ अलग-अलग मुठभेड़ों में अजहर के तीन भतीजों तलहा रशीद, उस्मान इब्राहिम और उमर फारूक को ढेर कर दिया गया। इन तीनों के पास एम 4 राइफलें थीं, जो मुठभेड़ वाले स्थान से अन्य हथियारों के साथ बरामद की गई थीं। अब तक रूस निर्मित कलाश्निकोव या एके-सीरीज राइफल्स के विभिन्न वेरिएंट 1988 से जम्मू-कश्मीर में कश्मीरी और पाकिस्तानी आतंकवादियों के साथ प्रमुख हमलावर हथियार रहे हैं।

एम 4 ने ऐसी आशंकाओं के बीच प्रवेश किया है कि अफगानिस्तान में अमेरिकियों और तालिबान के बीच एक समझौते के बाद जिहादी गुरिल्लाओं का वर्ग कश्मीर में अपना आधार बदल सकते हैं।

जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजी दिलबाग सिंह भी आतंकवादियों के पास एम 4 राइफलें होने की बात को मानते हैं। उनका कहना है कि आतंकवादियों के पास से छह एम 4 और दस अमेरिका निर्मित राइफलें जब्त की गई हैं।

उन्होंने कहा, पांच से छह जेईएम कमांडर एम 4 राइफल के साथ सक्रिय हैं, लेकिन वे अच्छी तरह से हमारी रडार पर हैं।

हालांकि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के कुछ वरिष्ठ अधिकारी, जो पिछले दो वर्षों में हाई-प्रोफाइल आतंकी हमलों की जांच से जुड़े हैं, उनका कहना है कि 10 से 15 जेईएम कमांडर वर्तमान में एम 4 राइफल से लैस हैं।

एनआईए के एक अधिकारी ने कहा, तीन से चार आतंकियों के प्रत्येक जेएम मॉड्यूल के कमांडर के पास एक एम 4 है, लेकिन वे पुलिस या सुरक्षा बलों को ज्यादा नुकसान नहीं पहुंचा पाए हैं।

जांच के दौरान, एनआईए को पता चला है कि जून 2017 से जनवरी 2020 के बीच जम्मू में अंतर्राष्ट्रीय सीमा के माध्यम से 60 जेईएम के आतंकवादियों ने कश्मीर में घुसपैठ की थी। वे सांबा और हीरानगर इलाकों में तीन से पांच के समूहों में घुसे थे। कहा जाता है कि कुछ अज्ञात घुसपैठियों ने एक भूमिगत सुरंग के माध्यम से भी प्रवेश किया है। अधिकारियों के अनुसार, प्रत्येक समूह के पास तीन से चार एके सीरीज की राइफलें और एक एम 4 राइफल है।

--आईएएनएस

एकेके/एएनएम

Related Articles

Comments

 

एमसीडी का दिल्ली सरकार पर नहीं, केंद्र पर 12 हजार करोड़ रुपये बकाया : आप

Read Full Article

Subscribe To Our Mailing List

Your e-mail will be secure with us.
We will not share your information with anyone !

Archive